वलोडिमिर जेलेंस्की ने पश्चिमी देशों से अधिक सैन्य सहायता मांगी

यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमीर जेलेंस्की (Volodymyr Zelenskyy) ने रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन को बातचीत के लिए बैठने का आह्वान करने के साथ ही पश्चिमी देशों से यूक्रेन को रूसी आक्रमण का मुकाबला करने के लिए और मजबूत सैन्य सहायता मुहैया कराने आग्रह किया है. पुतिन द्वारा विदेशी नेताओं और रूसी अधिकारियों के साथ हालिया बैठकों के लिए इस्तेमाल की गई एक लंबी मेज की ओर व्यंग्यात्मक रूप से इशारा करते हुए जेलेंस्की ने कहा, ‘‘मेरे साथ बातचीत करने के लिए बैठिये, 30 मीटर दूर नहीं. मैं काटता नहीं हूं. आप किस बात से भयभीत हैं?’’

जेलेंस्की ने बृहस्पतिवार के समाचार सम्मेलन के दौरान कहा कि रूस और यूक्रेन के बीच एक और दौर की वार्ता की संभावनाएं आशाजनक नहीं लगती. हालांकि, उन्होंने यह कहते हुए वार्ता की आवश्यकता पर बल दिया कि ‘‘कोई भी शब्द किसी गोली से अधिक महत्वपूर्ण हैं.’’ उन्होंने कहा कि यूक्रेन को समर्थन देने में दुनिया की गति बहुत धीमी है. उन्होंने पश्चिमी देशों के नेताओं से आह्वान किया कि वे रूसी युद्धक विमानों को रोकने के लिए यूक्रेन पर ‘नो-फ्लाई ज़ोन’ लागू करें.

अमेरिका और नाटो सहयोगियों ने इस कदम से इनकार किया है क्योंकि इससे रूसी और पश्चिमी देशों की सेनाएं आमने-सामने आ जाएंगी. जेलेंस्की ने कहा कि यदि पश्चिमी देश यूक्रेन पर ‘नो-फ्लाई ज़ोन’ घोषित करने को लेकर अनिच्छुक हैं, तो उन्हें कम से कम कीव को युद्धक विमान प्रदान करने चाहिए.

रूसी सेना ने यूक्रेन के प्रमुख बंदरगाह पर किया कब्जा
इसी बीच रूसी सेना ने यूक्रेन के एक प्रमुख बंदरगाह पर नियंत्रण कर लिया और देश को उसकी तटरेखा से अलग करने के प्रयासों के तहत एक अन्य की घेराबंदी कर ली है. डनाइपर नदी पर बसे शहर एनेरहोदार में लड़ाई तब हुई है जब दोनों पक्षों ने खूनखराबे को रोकने के उद्देश्य से एक और दौर की वार्ता के लिए बैठक की. यह शहर देश के लिए करीब एक चौथाई ऊर्जा उत्पादन के लिए जिम्मेदार है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.