पेटीएम पेमेंट्स बैंक ने चीनी कंपनियों को डाटा लीक किए जाने के आरोपों को किया खारिज

Paytm Payments Bank: पेटीएम पेमेंट्स बैंक ने इन खबरों का खंडन किया है कि नए ग्राहकों को जोड़ने पर आरबीआई द्वारा लगाया प्रतिबंध चीनी कंपनियों को डाटा लीक करने के चलते लगाया गया है. कंपनी ने कहा है कि वह रिजर्व बैंक के स्थानीय स्तर पर डाटा स्टोरेज संबंधी नियमों का पूरी तरह अनुपालन करता है और उसके सारे आंकड़े देश के भीतर ही मौजूद हैं.

पेटीएम पेमेंट्स बैंक ने एक बयान में अपना पक्ष रखते हुए कहा, बैंक के सभी आंकड़े देश के भीतर ही हैं. हम डिजिटल इंडिया अभियान में पूरी तरह यकीन करते हैं और देश में वित्तीय समावेशन को बढ़ावा देने के लिए प्रतिबद्ध हैं. कंपनी के मुताबिक ग्राहकों से जुड़े आंकड़े देश के भीतर ही सुरक्षित रखने संबंधी रिजर्व बैंक के नियमों का वह पूरी तरह अनुपालन करता है. रिजर्व बैंक ने इन आंकड़ों को महत्वपूर्ण मानते हुए सभी वित्तीय संस्थानों को स्थानीय स्तर पर डेटा सुरक्षित रखने का निर्देश दिया हुआ है. रिजर्व बैंक ने बीते हफ्ते शुक्रवार को पेटीएम पेमेंट्स बैंक लिमिटेड के नए खाते खोलने से इस आधार पर प्रतिबंधित कर दिया कि उसके परिचालन में ‘सामग्री निगरानी संबंधी चिंताएं’ पाई गई हैं.

बहरहाल, नए खाते खोलने पर रोक लगने के बाद सोमवार को पेटीएम की मूल कंपनी वन97 कम्युनिकेशंस के शेयरों में करीब 13 प्रतिशत की बड़ी गिरावट दर्ज की गई.  दरअसल आरबीआई की कार्रवाई और शेयर में गिरावट के पीछे पेटीएम पेमेंट्स बैंक के सर्वर से चीन की कुछ कंपनियों को आंकड़े भेजे जाने संबंधी खबर को जिम्मेदार माना जा रहा है. कंपनी ने उस रिपोर्ट को खारिज कर दिया है जिसके मुताबिक पेटीएम पेमेंट्स बैंक में चीन की कुछ फर्मों की भी अप्रत्यक्ष हिस्सेदारी है.

पेटीएम के संस्थापक विजय शेखर शर्मा की पेमेंट्स बैंक में 51 प्रतिशत हिस्सेदारी है जबकि बाकी हिस्सा वन97 कम्युनिकेशंस के पास है। चीन स्थित अलीबाबा समूह की अपनी होल्डिंग कंपनियों के जरिये वन97 कम्युनिकेशंस में करीब 31 प्रतिशत हिस्सेदारी है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.