अतीत को याद करते हुए, भविष्य की ओर देखते हुए: कैसे यूक्रेन में युद्ध यूरोप को बदल रहा है

रूस और यूक्रेन के बीच युद्ध में दोनों पक्षों ने इतिहास के साथ खिलवाड़ किया है. व्लादिमीर पुतिन का दावा है कि वह यूक्रेन को ‘‘नाजीवाद’’ से मुक्त करके दूसरे विश्व युद्ध को दोहरा रहे हैं, जबकि उनकी सेना ने बेबीन यार के होलोकास्ट स्थल को अपवित्र किया है. पुतिन के विरोधियों के अपने तर्क हैं. पुतिन विभिन्न रूप से हिटलर, स्टालिन या ज़ार पीटर द ग्रेट हैं.

सोशल मीडिया पर, मीम्स पश्चिम को याद दिलाने के लिए मध्ययुगीन काल को याद करते हैं, जब 11 वीं शताब्दी में कीव एक फलता-फूलता महानगर था, तब मास्को एक जंगल था. इतिहासकारों की इन दलीलों में कोई दिलचस्पी नहीं है. वे जानते हैं कि दोनों पक्ष अपने दावों को ‘‘सत्यापित’’ करने के लिए नक्शे और इतिहास पेश कर सकते हैं. इन्हें वर्तमान वास्तविकताओं को आकार देने की आवश्यकता नहीं है. जैसा कि संयुक्त राष्ट्र में केन्याई प्रतिनिधि ने अफ्रीकी स्थिति के बारे में कहा, जहां औपनिवेशिक युग की सीमाओं का मर्दन जारी हैं.

उन राष्ट्रों के निर्माण के बजाय जो एक खतरनाक विषाद के साथ इतिहास में हमेशा पीछे की ओर देखते हैं, हमने एक महानता की ओर देखना चुना, जिसके बारे में हमारे कई राष्ट्रों और लोगों को कभी पता नहीं था. इसके बजाय, इतिहासकार तेजी से बदलते वर्तमान को देख रहे हैं.  उन्हें एहसास होता है कि उक्रेन में इतिहास दोहराया नहीं बल्कि फिर से बनाया जा रहा है. इस प्रक्रिया में, यह यूरोप का चेहरा बदल रहा है.

जर्मनी का रवैया बदला

एक सप्ताह के अंतराल में, यूरोप के बारे में कुछ पुरानी निश्चितताओं को हटा दिया गया है. सबसे शानदार बात यह है कि जर्मनी, जिसके नाजी अतीत ने उसे एक महत्वपूर्ण सैन्य शक्ति बनने से बचते देखा है, ने अब अपने सैन्य खर्च में नाटकीय रूप से वृद्धि करने के लिए खुद को प्रतिबद्ध किया है. एक सौ अरब यूरो के प्रारंभिक आवंटन के बाद प्रत्येक बजट में खर्च इस मद में जीडीपी की कम से कम 2% की गारंटी राशि दी जाएगी.

युद्ध क्षेत्रों में हथियारों की बिक्री पर रोक लगाने वाली अपनी स्थायी नीति का उल्लंघन करते हुए, जर्मन चांसलर ओलाफ स्कोल्ज़ ने घोषणा की है कि उनका देश यूक्रेन को हथियार उपलब्ध कराने में शेष यूरोप का साथ देगा. जर्मन सैनिक अब लिथुआनिया और स्लोवाकिया की ओर बढ़ रहे हैं, जबकि रोमानिया, बाल्टिक और भूमध्य सागर में हवाई और समुद्री तैनाती की गई है.

इसके अलावा, ऊर्जा सुरक्षा के लिए जर्मनी के मर्केल-युग के दृष्टिकोण, जो कुछ दिनों पहले तक भरपूर मात्रा में रूसी गैस के वादे पर टिका हुआ था, को समाप्त कर दिया गया है.

नाटो की दौड़

इधर, नाटो भी पूर्व की ओर बढ़ रहा है, और लातविया, लिथुआनिया और एस्टोनिया के बाल्टिक राज्य नाटो सैनिकों के लिए जल्दबाजी में सहमत अग्रिम चौकी बन गए हैं. दशकों से नाटो में शामिल होने के सख्त खिलाफ होने के बाद, फ़िनलैंड में जनता की राय अचानक बदल गई है, इस मुद्दे पर एक जन याचिका के बाद संसदीय बहस करानी पड़ी है.  फिनलैंड के साथ, गैर-नाटो स्वीडन को युद्ध के प्रति यूरोपीय प्रतिक्रियाओं के समन्वय में मदद के लिए नाटो खुफिया तक विशेष पहुंच प्रदान की गई है.

यह अफ़वाहें भी जोरों पर हैं कि पोलैंड, स्लोवाकिया और बुल्गारिया अपने लड़ाकू विमानों को यूक्रेनी लड़ाकू पायलटों को दान करेंगे, जिससे सैन्य सहायता और सक्रिय भागीदारी के बीच की रेखा कुछ और लंबी हो जाएगी. यहां तक ​​​​कि स्विट्जरलैंड, जिसकी तटस्थता नेपोलियन युद्धों के बाद से चली आ रही है, अचानक यूरोपीय संघ के आर्थिक प्रतिबंधों में रूसी बैंकों और संपत्तियों को लक्षित कर रहा है.

यूरोप का दक्षिणपूर्व भी सक्रिय है

अन्य यूरोपीय राज्य भी अपने राजनीतिक दृष्टिकोण में बदलाव कर रहे हैं. बोस्निया औपचारिक रूप से नाटो में शामिल होने पर विचार कर रहा है, जबकि कोसोवो अपने क्षेत्र में एक स्थायी अमेरिकी आधार को सुरक्षित करने के लिए भूमिका बना रहा है.

इन दोनों कदमों को एक सप्ताह पहले तक रूस के लिए अकल्पनीय उकसावे के रूप में देखा जाता, और अभी भी यह नाटो के लिए जोखिम भरे विकल्प होंगे. लेकिन, नाटो द्वारा यूरोप को ‘‘नव सामान्य’’ की दहलीज पर खड़ा होने की घोषणा के साथ, इस तरह की पहले की वर्जनाएं ‘‘जॉर्जिया, मोल्दोवा, और बोस्निया और हर्जेगोविना जैसे देशों को अधिक समर्थन’’ की इच्छा का मार्ग प्रशस्त कर रही हैं.

इस बीच, यूक्रेन के पड़ोसियों के साथ यूरोप की ‘‘रणनीतिक एकजुटता’’ के हिस्से के रूप में फ्रांसीसी सैनिकों को रोमानिया भेजा गया है. इन घटनाओं ने पूर्वी यूरोप में नाटो के विस्तार के परिणामों के बारे में पहले की सावधान चर्चाओं को दरकिनार कर दिया है.

दक्षिण-पूर्व में, तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तईप एर्दोगन, जिन्होंने रूस और नाटो के बीच एक बीच के रास्ते पर चलने की कोशिश की है, ने भी अपने नाटो सहयोगियों के दबाव में जिद छोड़ दी और 1939 मॉन्ट्रो कन्वेंशन को सक्रिय कर दिया.

यह प्रभावी रूप से तुर्की जलडमरूमध्य को युद्धपोतों के आवागमन के लिए बंद करता है, जिससे रूस की भूमध्यसागर से काला सागर में और दक्षिणी यूक्रेन में क्रीमिया और ओडेसा में अधिक जहाजों को स्थानांतरित करने की क्षमता में बाधा उत्पन्न होती है.

सब कुछ अलग नहीं है

हालांकि ऐसा प्रतीत होता है कि बुल्गारिया, रोमानिया और मोल्दोवा के साथ पोलैंड और हंगरी ने अपनी पूर्वी सीमाओं को खोलकर अपनी कुख्यात शरणार्थी विरोधी नीति को भले ही उलट दिया था, लेकिन यह बदलाव अभी भी नस्लीय बंदिशों के साथ हैं. इसका मतलब है कि यूरोपीय यूक्रेनियन आसानी से सीमाओं को पार कर सकते हैं, लेकिन अभी भी उन अरब, एशियाई और अफ्रीकी शरणार्थियों के लिए बहुत वास्तविक बाधाएं हैं जो यूक्रेन में अपने काम और पढ़ाई छोड़कर भागने के लिए मजबूर हैं.

मास्को के साथ कुछ गठबंधन मजबूत रहे हैं. बेलारूस के राष्ट्रपति अलेक्जेंडर लुकाशेंको की कहानी जगजाहिर है. उनका भाग्य सार्वजनिक रूप से तब से रूस से जुड़ा हुआ है जब एक कपटपूर्ण चुनाव के बाद बड़े पैमाने पर हुए विरोध प्रदर्शनों के कारण सत्ता पर उनकी पकड़ कमजोर हो गई. उन्होंने एक संदिग्ध जनमत संग्रह के माध्यम से सत्ता पर अपनी पकड़ बढ़ाई.

सर्बिया के राष्ट्रपति अलेक्जेंडर वूसिक की जो स्थिति है, उसे बाल्कन के बाहर ज्यादा अच्छी तरह से समझा नहीं जाता है. उन्होंने पुतिन के लिए समर्थन की घोषणा की है, ताकि कोसोवो और बोस्निया में सर्बियाई उद्देश्यों के लिए रूसी समर्थन बनाए रखा जा सके.

भूला हुआ इतिहास

कुछ खबरों के विपरीत, द्वितीय विश्व युद्ध के बाद यूरोप में यह पहला बड़ा युद्ध नहीं है. बाल्कन ने 1990 के दशक का अधिकांश समय युद्ध में बिताया, जिसमें यूगोस्लाविया का विघटन, भयानक जातीय संघर्ष, सर्बियाई नरसंहार, बेलग्रेड पर नाटो बमबारी और कोसोवो की घेराबंदी शामिल थी. दरअसल, पुतिन बाल्कन में नाटो की गतिविधियों को कभी नहीं भूले हैं.

इसी तरह, 2014 से रूस और यूक्रेन के बीच चल रहे सैन्य संघर्ष से पहले 2008 का रूसी-जॉर्जियाई युद्ध हुआ था. इसके अलावा, इराकियों ने संकेत दिया है कि यूक्रेन पर रूस का हमला इराक पर 2003 के अमेरिकी आक्रमण की प्रतिध्वनि है, एक ऐसा आक्रमण जिसने अंतरराष्ट्रीय कानून की मजबूती पर भी सवाल उठाया.

हालांकि, इतिहासकार इस बात से अवगत हैं कि यूरोप और उससे आगे के इन पिछले युद्धों ने उस तरह की तीव्र और एकजुट यूरोपीय कार्रवाई को गति नहीं दी थी, जो अब देखी जा रही है. न ही उन्होंने परमाणु संघर्ष के खतरे को जन्म दिया था जो अब फिर से उभरा है. यूरोप का इस तरह सैन्य सहायता देना और युद्ध में सक्रिय भागीदार बनना पुतिन की परमाणु खतरे की धमकी को ट्रिगर कर सकता है. इस परमाणु दुविधा का सामना हिटलर, स्टालिन या ज़ार के समय में नहीं हुआ था.

ये भी पढ़ें- Ukraine Russia War: अमेरिका के अंतरिक्ष अभियान को झटका, रूस ने की ये बड़ी कार्रवाई

Ukraine Russia War: रूस के हमले के बीच अब यूक्रेन में गूगल सर्विस पर असर, जी-मेल और यू-ट्यूब नहीं चला पा रहे लोग

Leave a Reply

Your email address will not be published.